उत्तराखण्ड के लब्ध गीतकार, संगीतकार और गायक नरेन्द्र सिंह नेगी एकमात्र ऐसे रचनाधर्मी कलाकार है, जिन्होंने पहली बार गीतों में कविता को प्रतिष्ठित कर लोक संगीत से दूर होते जा रहे बाद्ययंत्रों, ढोल, तुरई, मशकबीन, मोछंग आदि को आंचालिक लोक सम्पदा को पुर्नजीवन देने का काम किया है। नरेन्द्र केContinue Reading